दिल्‍ली का वायु प्रदूषण कोरोना से भी अधिक जानलेवा, एक्‍सपर्ट दे रहे चेतावनी

Spread the love

बढ़ते हुए प्रदुषण के चलते लोगों को घर से बाहर तो समस्‍या हो ही रही है, साथ ही घर के अंदर भी प्रदूषण का स्‍तर बढ़ने से समस्‍या और घातक हो गयी है. घर के बाहर और अंदर वायु प्रदूषण का स्‍तर बढ़ने से अधिकांश लोग अब सांस संबंधी बीमारियों से जूझने के साथ ही निमोनिया और अस्‍थमा जैसी खतरनाक बीमारियां भी लोगों को अपनी पकड़ में ले रही हैं.

कुछ विशेषज्ञों की ओर से अब दिल्‍ली के वायु प्रदूषण को कोरोना वायरस संक्रमण से भी अधिक खतरनाक बताया जा रहा है. वे इससे बचने की सलाह दे रहे हैं. बढ़ते वायु प्रदूषण और प्रदूषक तत्‍वों के कारण फेफड़े और अधिक खराब हो रहे हैं. समय पर इलाज न किए जाने पर इससे मौत होने की भी आशंका बढ़ रही है. आइये यहां हम आपको बताते हैं कि क्‍यों वायु प्रदूषण से लोगों को सचेत रहने की जरूरत है…

निमोनिया पहले कोरोना वायरस के कारण भी फैल रहा था, अब यह वायु प्रदूषण के कारण भी लोगों को अपनी जकड़ में ले रहा है.सामान्य निमोनिया उन लोगों के लिए जानलेवा हो सकता है, जिन्हें पहले सांस संबंधी समस्‍या हैं. या जिनकी उम्र 65 साल से अधिक है.

निमोनिया जैसा संक्रमण आमतौर पर वायरस, बैक्टीरिया या फंगी के कारण होता है, यह तब भी हो सकता है जब कोई व्यक्ति वायरस या अन्य पैथोजेंस से दूषित सतह के संपर्क में आता है, जैसे कि जो हवा में फैलजाते हैं और अत्यधिक संक्रामक हो जाते हैं.

वायु प्रदूषण स्‍तर और निमोनिया

निमोनिया निस्संदेह एक खतरनाक संक्रमण है जो वायु प्रदूषण के स्तर के बढ़ने पर एक बड़ी समस्या बन सकता है. घर के अंदर हो या बाहर, वैज्ञानिकों ने कहा है कि प्रदूषण के समय में निमोनिया और अन्य गंभीर सांस समस्याओं का खतरा दोगुना हो जाता है और मृत्यु दर का खतरा भी बढ़ जाता है.जब कोई व्यक्ति हवा में विभिन्न प्रदूषकों के संपर्क में आता है, तो उसका सांस की रास्‍ता सिकुड़ने लगता है, फेफड़े भी सिकुड़ने लगते हैं.

किसे अधिक है निमोनिया का खतरा?

निमोनिया अक्सर खतरा हो सकता है और इसमें मौत होने की आशंका भी अधिक रहती है. प्रदूषण जो उन लोगों के लिए काफी चिंताजनक हो सकता है, जिन्हें पहले से सांस संबंधी कोई परेशानी रही है. या जिनका इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर पड़ चुका है. निम्न आयु समूहों के लिए निमोनिया अस्पताल में भर्ती और मृत्यु दर की उच्च दर भी अधिक होती है-
– पांच साल से कम उम्र के बच्‍चे
– 65 साल से अधिक उम्र के लोग
– गर्भवती महिलाएं
– सांस संबंधी गंभीर बीमारियों से ग्रस्‍त लोग

निमोनिया को कैसे पहचानें?

निमोनिया के लक्षण लोगों की उम्र, बीमारी के आधार पर जानलेवा या कम जानलेवा हो सकते हैं. इसके लक्षणों में निम्‍न बातें शामिल हैं…
– ठंड लगना या बुखार आना
– बलगम के साथ खांसी आना
– सांस लेने या खांसने से सीने में दर्द होना
– जुकाम और उल्‍टी होना
– बेचैनी होना
– तेज तेज सांस लेना

 

 500 total views,  3 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *