RBI ने लगाया इस सहकारी बैंक पर जुर्माना,जानिए क्या बैंक के ग्राहकों पर भी पड़ेगा कोई असर

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने एक सहकारी बैंक पर 5 लाख रुपये जुर्माना लगाया है. नवंबर 2016 में नोटबंदी के दौरान केवाईसी (KYC) पर जारी निर्देशों और चलन से हटाए गए नोटों को बदलने से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन नहीं करने को लेकर यह जुर्माना लगाया गया है. केंद्र सरकार ने नवंबर 2016 में 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों को चलन से हटाने की घोषणा की थी. इसके बाद आरबीआई ने नोटों को बदलने को लेकर दिशानिर्देश और समयसीमा जारी की थी.

केंद्रीय बैंक आरबीआई ने बिहार के जिस सहकारी बैंक पर जुर्माना लगाया है, उसका नाम बिहार अवामी को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड है. RBI ने सोमवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा कि बिहार अवामी को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड ने नोटबंदी के दौरान केवाईसी पर जारी निर्देश और चलन से बाहर किए गए रुपये के नोटों को बदलने से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया. इसी वजह से बैंक पर 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. हालांकि आरबीआई ने इस बारे में विस्तार से जानकारी नहीं दी है.

शोकॉज के जवाब में सं​तुष्टि नहीं
RBI के मुताबिक, दिशानिर्देशों के उल्लंघन के बाद सहकारी बैंक को कारण बताओ नोटिस (So Cause) जारी किया गया था और व्यक्तिगत सुनवाई का अवसर भी प्रदान किया गया. इसके बाद बिहार अवामी को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड ने लिखित जवाब दिया. हालांकि जवाब संतोषजनक नहीं था. मामले के तथ्यों और बैंक के जवाब पर विचार करने के बाद, रिजर्व बैंक ने यह पाया कि नियमों का उल्लंघन किया गया है. इसके लिए बैंक पर दंड लगाया जाना आवश्यक है.

को-ऑपरेटिव बैंकों में सामने आते रहे हैं ऐसे मामले

हाल के कुछ सालों में को-ऑपरेटिव बैंकों में सामने आए गड़बड़झाले ने उपभोक्ताओं को सशंकित किया है. एक के बाद एक कर के देश में कई बैंक घोटाले सामने आने के कारण लोगों के मन में डर लगा रहता है. बिहार में सृजन सहकारी समिति का घोटाला हो या फिर महाराष्ट्र में पीएमसी बैंक घोटाल. लोग को-ऑपरेटिव बैंकों में पैसे लगाने से हिचकने लगे हैं. जिनका पैसा पहले से इन बैंकों में है, उनके बीच भी डर बैठ जाता है.

इसी साल जनवरी में आरबीआई ने व्यावसायिक सहकारी बैंक मर्यादित पर 5 लाख रुपये और महाराष्ट्र नागरी सहकारी बैंक मर्यादित पर 2 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था. केवाईसी (KYC) और कुछ अन्य मानदंडों के उल्लंघन को लेकर दोनों को-ऑपरेटिव बैंकों पर 7 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया था.

एटीएम और KYC के दिशानिर्देशों की अनदेखी
न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, RBI ने बताया था कि ऑन साइट एटीएम की ओ​पनिंग और KYC को लेकर RBI द्वारा जारी निर्देशों का पालन नहीं करने के लिए ‘व्यावसायिक सहकारी बैंक मर्यादित, रायपुर’ पर जुर्माना लगाया गया था. वहीं, KYC को लेकर केंद्रीय बैंक द्वारा जारी निर्देशों का पालन नहीं करने के लिए महाराष्ट्र नागरी सहकारी बैंक मर्यादित, लातूर पर जुर्माना लगाया गया था.

क्या बैंक के ग्राहकों पर भी पड़ेगा कोई असर?
आए दिन ऐसी गड़बड़ियों के मामले सामने आने और को-ऑपरेटिव बैंकों पर कार्रवाइयों की खबरें उपभोक्ताओं का ध्यान खींचती रही है. ऐसे में उपभोक्ताओं को अक्सर एक ही डर लगा रहता है कि उनके पैसे कितने सुरक्षित हैं. आरबीआई की कार्रवाई से कहीं बैंकों में जमा उनके पैसों पर तो कोई खतरा नहीं!

इस बारे में आरबीआई ने स्पष्ट किया है कि बैंक में जमा किए गए ग्राहकों के पैसों पर कोई असर नहीं होने वाला. RBI के मुताबिक, बैंकों के खिलाफ लिया गया इस तरह का एक्शन नियामकीय अनुपालनों में कमियों पर आधारित है. इसका मकसद बैंकों और ग्राहकों के बीच किसी तरह के ट्रांजेक्शन या करार की वैधता पर फैसला देने का नहीं है. ऐसे में स्पष्ट है कि इन इस बैंक के ग्राहकों के पैसों पर इस कार्रवाई का कोई असर नहीं पड़ने वाला है.

 186 total views,  1 views today

6 thoughts on “RBI ने लगाया इस सहकारी बैंक पर जुर्माना,जानिए क्या बैंक के ग्राहकों पर भी पड़ेगा कोई असर”

  1. What’s up to every , since I am truly eager of reading this webpage’s post to be updated daily.
    It contains fastidious material. 0mniartist asmr

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *