जब बेटी ने निभाया बेटे का फर्ज, दी पिता को मुखाग्नि

अग्रवाल समाज के उस बेटी को नमन है जिसने अपने पिता को कंधा देकर बेटे का फर्ज निभाया। जी हां, हम बात कर रहे हैं सोहना कस्बे की बेटी नेहा गर्ग की जिसने अपने पिता का संस्कार करने में बेटे का दायित्व निभाकर मिसाल कायम की है।
बता दें कि मृतक का पूरा परिवार भी है तथा दो बेटों में से एक बेटा जीवित है तथा वह बाहर रहता है।
जानकारी के मुताबिक सोहना कस्बे के वार्ड नंबर-18 मोहल्ला मिर्जा वाडा, निकट ओम स्वीट के निकट रहने वाले सुनील कुमार पुत्र जगदीश चंद का अकस्मात स्वर्गवास हो गया था। उनको श्मशान ले जाने के लिए कोई भी समाज का व्यक्ति नहीं पहुंचा था। सुनील ग्रामीण बैंक में सर्विस करता था जबकि उसकी बेटी नेहा सोहना निरंकारी कॉलेज में प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हैं।
अंत में सुनील का संस्कार करने के लिए कॉलेज का स्टॉफ व व्यापार मंडल सोहना के प्रधान अशोक गर्ग व प्रेस एसोसिएशन के प्रधान ललित जिंदल आगे आये। उन्होंने सभी रस्म पूरी करके सुनील का अंतिम संस्कार कराया। जबकि उसकी बेटी नेहा ने अपने पिता को कंधा ही नहीं दिया बल्कि उसको मुखाग्नि भी दी।
समाज ने किया ऐसी बेटी को नमन। जिसने सभी मर्यादाओं को दरकिनार करके एक बेटी होने के बाबजूद बेटे का फर्ज निभाया।

One thought on “जब बेटी ने निभाया बेटे का फर्ज, दी पिता को मुखाग्नि”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *