विवादों में फंसा “कौन बनेगा करोड़पति सीजन-12”

मशहूर टीवी क्विज शो कौन बनेगा करोड़पति विवादों में घिरता नजर आ रहा है। इस शो को लेकर मुजफ्फरपुर की अदालत में परिवाद दर्ज कराया गया है। धार्मिक भावनाओं को आघात पहुंचाने के आरोप में सिकंदरपुर निवासी आचार्य चंद्रकिशोर पाराशर ने सीजेएम कोर्ट में परिवाद दर्ज कराया है। इसमें अभिनेता अमिताभ बच्चन, एक टीवी क्विज शो के निर्देशक अरुणेश कुमार, राहुल वर्मा, टीवी चैनल के अध्यक्ष मनजीत सिंह, सीईओ एनपी सिंह व प्रतिभागी बेजवाड़ा विल्सन समेत सात को नामजद किया है। परिवाद पर अगली सुनवाई के लिए तीन दिसंबर की तिथि तय की गई है।

ये हैं आरोप
चंद्रकिशोर पाराशर ने आरोप लगाया है कि 30 अक्टूबर को वो अपने आवास पर ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के सीजन-12 के एपिसोड को देख रहे थे। कार्यक्रम में होस्ट अमिताभ बच्चन थे। दूसरी जगह पर जवाब देने के लिए बैजवारा विल्सन बैठे थे। वो सारे सवालों का जवाब सोच समझकर दे रहे थे। हर सवाल के बीच-बीच में अमिताभ बच्चन और बैजवारा विल्सन हंसी मजाक कर रहे थे। एपिसोड के बीच में अमिताभ बच्चन ने कंटेस्टेंट से 64 लाख रुपए का सवाल पूछा था. उसी सवाल से हिंदू भावना को ठेस पहुंची है।

30 अक्टूबर को KBC के कम्प्यूटर में ये सवाल आया था कि 25 दिसंबर 1927 को डॉ. भीमराव अम्बेडकर के अनुयायियों ने किस धर्मग्रंथ की पर्चियां जलाईं थीं? इसके चार ऑप्शन दिए गए थे जिसमें A. विष्णुपुराण, B. भागवत गीता, C. ऋगवेद और D. मनुस्मृति दिया गया था। इसी प्रश्न को लेकर वादी चंद्रकिशोर परासर का परिवाद में कहना है कि जान बूझकर हिंदू भावना का ठेस पहुंचाने के लिए शो में इस तरह का प्रश्न तय किया गया। इससे हिंदू भावना को आघात पहुंचता है। कोर्ट 3 दिसंबर को ग्रहण के बिंदु पर सुनवाई करेगी, यानि इस परिवाद को मुकदमे के रूप में लिया जाए कि नहीं, इसका फैसला 3 दिसंबर को होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *