नई गाइडलाइंस ने फीका किया शादियों का रंग

आज से शादियों का सीजन शुरू हो रहा है। तय सीमा में मेहमानों को बुलाने की पाबंदियां होने के कारण शादियों का रंग फीका है। इस बार उतनी धूमधाम नजर नहीं आ रही। बैंड-बाजे, ढोल, आतिशबाजी वालों के व्यापार में 50 प्रतिशत तक गिरावट हुई है। कुछ बैंड वालों ने तो दूसरे काम शुरू कर दिए हैं। शादियों की लाइव स्ट्रीमिंग की मांग बढ़ रही है। हालांकि, शादियों के सीजन में कोरोना के नियम का पालन करवाना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती होगी।

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अब उत्तर प्रदेश में शादी समारोह या किसी भी सार्वजनिक आयोजन में एक समय में 100 से अधिक लोगों को नहीं बुलाया जा सकेगा। ऐसे में शादी की तैयारियों में जुटे आम लोगों की उलझन बढ़ गई है। इधर दिल्ली में भी शादी को लेकर सरकार के नियम से लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। इस नियम के लागू होने से पहले जिन लोगों ने शादी समारोह के लिए मैरिज हॉल बुक कराए हैं, उन्हें 50-50 लोगों को अलग-अलग समय पर शामिल होने के लिए बता रहे हैं। नई गाइडलाइंस ने धूमधाम से शादी का सपना संजोए बैठे लोगों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। ऐसे में कई लोग समारोह स्थगित कर रहे हैं।

शादी समारोह के लिए यूपी सरकार की नई गाइडलाइंस में डीजे और बैंड-बाजे की अनुमति की तस्वीर साफ नहीं है। सटीक जानकारी न होने से लोग इधर-उधर भटक रहे हैं। कोई कलेक्ट्रेट के चक्कर लगा रहा है तो कोई थानों में घूम रहा है। इस बीच कई लोगों ने डीजे और बैंड बाजे की बुकिंग ही रद्द कर दी है तो कई जगह लोग शादी समारोह भी स्थगित कर रहे हैं।

शादी समारोह में केवल 50 लोगों की अनुमति का मालिकों ने तोड़ भी निकाल लिया है। इस नियम के लागू होने से पहले जिन लोगों ने शादी समारोह के लिए मैरिज हॉल बुक कराए हैं, उन्हें 50-50 लोगों को अलग-अलग समय पर शामिल होने के लिए बता रहे हैं। यह कॉन्सेप्ट उन लोगों को भी पसंद आ रहा है, जिन्होंने इस नियम के लागू होने से पहले ही शादी के कार्ड बांट दिए हैं। अधिकतर लोग इस कॉन्सेप्ट के साथ अपने मेहमानों को शादी समारोह में आने के लिए भी अलग-अलग समय दे रहे हैं, ताकि सभी मेहमान शादी समारोह में शामिल भी हो सकें और कोरोना नियमों का पालन भी हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *