निकिता हत्याकांड: मंगलवार से फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई शुरू, पहले दिन दो गवाहों की हुई सुनवाई

निकिता हत्याकांड में मंगलवार से फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई। पहले दिन अभियोजन पक्ष ने दो चश्मदीद गवाहों को कोर्ट में पेश किया। इनमें से एक गवाह तरुण ने कोर्ट परिसर में ही तौसीफ और रेहान को पहचानते हुए कहा कि उसके सामने ही तौसीफ ने निकिता तोमर को गोली मारी थी। जबकि दूसरी चश्मदीद निकिता की सहेली ने कोर्ट को बताया कि वारदात के समय आरोपियों ने अपने चेहरे ढके हुए थे।

फास्ट ट्रैक कोर्ट के न्यायाधीश सरताज बासवाना के समक्ष पहले दिन दो गवाहों की सुनवाई हुई। हालांकि, तीन चश्मदीदों को गवाही के लिए बुलाया गया था, मगर कार्रवाई लंबी चलने के कारण केवल दो की ही गवाही हो सकी। छात्रा निकिता की सहेली की गवाही में अभी बचाव पक्ष के अधिवक्ता की तरफ से जिरह बाकी है। मंगलवार सुबह करीब ग्यारह बजे अदालत में केस की सुनवाई शुरू हुई। सबसे पहले निकिता की बुआ के लड़के तरुण ने कोर्ट के समक्ष अपने बयान दर्ज कराए। तरुण ने कहा कि उसने तौसीफ को अपनी आंखों से गोली चलाते हुए देखा है। उसने अदालत के सामने तौसीफ व उसके दोस्त रेहान को पहचान लिया।
बचाव पक्ष बोला, पहले तैयार होकर आए गवाह
बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने कहा कि गवाह को पहले से तैयार करके लाया गया है। क्योंकि गवाह मृतका के परिवार से संबंध रखता है। इसलिए यह इस तरह के बयान दे रहा है। निकिता तोमर की सहेली (जो सीसीटीवी में नजर आ रही है) ने अपने बयानों में कोर्ट को बताया कि हत्या वाले दिन आरोपियों ने चेहरा ढका हुआ था। ऐसे में वह पूरी तरह से आरोपियों को नहीं पहचान सकती। लेकिन उनकी कद काठी कोर्ट में मौजूद आरोपियों जैसी ही थी। उसका अनुमान है कि इन्हीं लोगों ने उसके सामने निकिता तोमर की हत्या की है। आरोपियों की कद काठी और चलने के भाव से वह उन्हें पहचान रही है।
इसके बाद बचाव पक्ष के सवाल से पहले ही अदालत का समय पूरा हो गया। अब बुधवार को छात्रा की सहेली से बचाव पक्ष के अधिवक्ता सवाल करेंगे साथ कि निकिता तोमर के भाई नवीन की गवाही भी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *