दिल्ली आने-जाने वाले लोगों की रैंडम जांच शुरू

देशभर में कोरोना वायरस का प्रभाव तेजी से फैलते हुए लोगों को अपनी जद में लेता जा रहा है। ऐसे में हर राज्य इसी पर विचार विमर्श करने में व्यस्त है कि स्थिति से निपटने के लिए क्या किया जा सके। इसी कड़ी में देश की राजधानी दिल्ली में भी इस बात पर गंभीरता दिखाई जा रही है क्योंकि अधिकांश लोगों का दिल्ली से आना जाना लगा रहता है। ऐसे में दिल्ली सरकार इस बात को लेकर चिंतित है कि कहीं लोग दिल्ली में कोरोना का संक्रमण लेकर आ जाए।

वहीं दूसरी और महाराष्ट्र का भी दिल्ली से आने वाले लोगों को लेकर फैसला करते हुए यह निर्णय लिया है कि अब उनके राज्य में आने वाले व्यक्तियों को अपनी कोरोना की रिपोर्ट दिखानी होगी। यूपी के बरेली में तो प्रशासन ने स्थानीय अपील करते हुए कहा है कि अगर कोई दिल्ली से आता है तो उसकी सूचना कंट्रोल रूम में दे दी जाए ताकि स्थिति को भांपते हुए इस संक्रमण पर नकेल कसी जा सके।

दिल्ली से  गाजियाबाद से लेकर हरियाणा में नोएडा बॉर्डर्स में भी कोविड-19 की टेस्ट में तेजी लाई जा रही है ताकि अधिक से अधिक लोग का टेस्ट किया जा सके और संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। सभी प्रमुख प्रवेश मार्गों पर लोगों की रैंडम जांच की जा रही है। यहीं नहीं छोटे-छोटे प्रवेश मार्गों को बंद कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक वैसे तो गाजियाबाद नोएडा हरियाणा के लोगों का अक्षरा जगाना दिल्ली में लगा ही रहता है ऐसे में यदि संक्रमण एक राज्य से दूसरे राज्य में फैलता है तो मुश्किलें बढ़ सकती है। यही कारण है कि दिल्ली से गाजियाबाद आने वाले सभी मार्गों पर विशेष जांच अभियान चलाया जा रहा है लोगों को जागरुक भी किया जा रहा है।

शाहजहांपुर में दिल्ली से आने वालों की टेस्ट के लिए टीम अलर्ट

बरेली के फतेहगंज पश्चिमी में झुमका चौराहे पर मोबाइल मेडिकल यूनिट तैनात की गई है। दिल्ली की तरफ से आने वाले प्राइवेट वाहन सवार बीमार और 50 साल से अधिक उम्र के लोगों की एंटीजेन किट से जांच हो रही है।

कोविड अस्पताल में पहली वरीयता में सैम्पलिंग का आदेश दिया गया है। शाहजहांपुर में दिल्ली से आने वालों की कोरोना संक्रमण जांच के लिए टीमों को अलर्ट किया गया है। अगर हालात खराब होते हैं तो दिल्ली से आने वालों को होमआइसोलेट किया जाएगा।

खांसी जुखाम के लक्षण वाले लोगों के लिए जाएंगे आरटी – पीसीआर सैंपल

मेरठ से दिल्ली आने जाने वालों की रैंडम एंटीजन जांच की जा रही है। मेरठ से रोजाना 25 से 30 हजार लोग दिल्ली समेत गाजियाबाद-नोएडा के लिए सफर तय करते हैं। जिन मरीजों में खांसी जुकाम के लक्षण मिले थे तो इनके आरटी पीसीआर सैंपल भी लिए गए हैं। विभाग दिल्ली जाने वाले लोगों को लेकर सावधानी रख रहे हैं।

शुक्रवार से दिल्ली आने-जाने वाले लोगों के रैंडम जांच शुरू

निजी वाहनों में जाने वालों की भी संख्या बढ़ गई है। विभाग खासकर दिल्ली आने जाने वालों पर नजर रखे हुए हैं। बुलंदशहर, बागपत, शामली के हजारों लोग दिल्ली के लिए सफर करते हैं। शुक्रवार से दिल्ली को आने-जाने वाले लोगों के रैंडम जांच शुरू हो गई है। जिला एनसीआर में होने के कारण यहां पर कोरोना का खतरा बना हुआ है। बसों में जाते समय लोग सावधानी पूर्वक सफर करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *