सड़क पर गिरे 53000 रुपए लौटाए, ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने पेश की इमानदारी की मिसाल

ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने पेश की इमानदारी की मिसाल, सड़क पर गिरे 53000 रुपए, मालिक को लौटाए

पुलिस आयुक्त श्री ओपी सिंह ने पुलिसकर्मी की इमानदारी की प्रशंसा करते हुए इसी प्रकार इमानदारी और मेहनत के साथ देश सेवा करने के लिए किया प्रोत्साहित

फरीदाबाद: ट्रैफिक पुलिस में तैनात हवलदार चतुर्भुज ने ईमानदारी की मिसाल पेश करते हुए गुडईयर मेट्रो स्टेशन के पास सड़क पर गिरे ₹53000 और बटुआ उसके मालिक को सौपां ।

सेक्टर 8 के रहने वाले नरेंद्र अपने दोस्त को लेने के लिए गुडईयर मेट्रो स्टेशन गया जहां पर उसने अपनी गाड़ी की खिड़की खोले तो उसका बटुआ और रूपये नीचे सड़क पर गिर गए थे।

ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने सड़क पर गिरे हुए बटुए को देख लिया परंतु तब तक नरेंद्र अपनी गाड़ी लेकर वहां से जा चुका था।

पुलिसकर्मी ने जब चेक किया तो बटुए में ₹53000 मिले। पुलिसकर्मी यदि चाहता तो बटुए में रखे सारे पैसे अपने पास रख सकता था परंतु पैसों के लालच में न आकर पुलिसकर्मी ने ईमानदारी का परिचय दिया और बटुए को अपने पास रख लिया ताकि जिसके पैसे गिरे थे उसको वापस लौटाया जा सके ।

नरेंद्र ने काफी समय बाद जब अपना बटुआ चेक किया तो उसे अपना पर्स गायब मिला। अपने बटुए को ढूंढते हुए नरेंद्र वापस मेट्रो स्टेशन पहुंचा परंतु उसे कहीं भी अपना बटुआ नजर नहीं आया। और रुपए वापस मिलने की आस खो चुका था

नरेंद्र ने इसके बारे में अपने एक पत्रकार दोस्त रिंकू को बताया तो पत्रकार ने नरेंद्र से कहा कि वह वहां आसपास मौजूद ट्रैफिक पुलिसकर्मियों से इसके बारे में पता करें, यदि पुलिस को वह बटुआ मिला होगा तो अवश्य ही उसे वापस मिल जाएगा।

नरेंद्र मैं जब वहां पर मौजूद पुलिसकर्मियों से पूछताछ की तो पता चला कि वह पर्स हवलदार चतुर्भुज को मिला था।

नरेंद्र जब अपने बटुए को लेने के लिए हवलदार चतुर्भुज के पास पहुंचा तो उसने सारी घटना पुलिसकर्मी को बताई। पुलिसकर्मी द्वारा दस्तावेज चेक करने के पश्चात जब उसे या विश्वास हो गया कि यह बटुआ नरेंद्र का ही है तो उसे वापस लौटा दिया।

नरेंद्र ने अपना बटुआ चेक किया तो उसमें रखे पैसे और कागजात सुरक्षित मिले।

नरेंद्र ने पुलिसकर्मी की इमानदारी और सौहार्दपूर्ण व्यवहार को देखते हुए उसकी प्रशंसा की और कहा कि जब तक पुलिस विभाग में आप जैसे ईमानदार पुलिसकर्मी मौजूद है तब तक आमजन पूरी तरह से सुरक्षित हैं और नागरिकों को चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

पुलिस आयुक्त श्री ओपी सिंह को जब इसके बारे में जानकारी मिली तो उन्होंने पुलिसकर्मी की प्रशंसा करते हुए कहा कि इतने ईमानदार और कड़ी मेहनत करने वाले पुलिसकर्मियों का नेतृत्व कर वह अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।

श्री ओपी सिंह ने पुलिसकर्मी को प्रोत्साहित करते हुए इसी प्रकार इमानदारी और मेहनत के साथ देश की सेवा करने के लिए प्रेरित किया।

 874 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *