पिछले तीन सालों से इंजीनियरिंग छात्र चिमटी पेचकस से निकाल रहे एटीएम से रुपए

जबलपुर: अपने शातिर दिमाग का इस्तेमाल करके एटीएम से रुपए निकालने वाले तीन बदमाश पुलिस की गिरफ्त में आ गए हैं। जबलपुर के संजीवनी नगर इलाके की एटीएम मशीन से रुपए निकाले जाने की पुलिस में शिकायत होने के बाद इन आरोपियों को पकड़ा गया। आरोपियों के पास से पुलिस ने तीन एटीएम कार्ड, दो मोबाइल सहित 65 हजार रुपये जप्त किए गए हैं।

पूछताछ पर तीनों आरोपियों ने बताया कि विजय यादव जो कि लखनऊ इंटीग्रल यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग का छात्र है उसमे ही एटीएम से पैसे निकालने की योजना बनाई थी। इसका साथ देने वाले गगन कटियार और अजीत कुमार भी उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं।
आरोपियों ने बताया कि एटीएम से पैसे निकालने के लिए वो लोग एनसीआर कंपनी की मशीन की तलाश में रहते थे। उन्होंने स्वीकार किया कि एनसीआर कंपनी की एटीएम मशीन में पेचकस और चिमटी फंसाना आसान होता है। इसलिए पिछले लगभग तीन वर्ष से एनसीआर कंपनी की एटीएम को चिह्नित कर एटीएम में कार्ड फंसा कर ट्रांजेक्शन के दौरान रुपये निकाल लेते थे। इस दौरान पेचकस और स्टील की पतली चिमटी फंसा लेते थे। इसकी वजह से ट्रांजेक्शन की लिंक टूट जाती थी। इससे अकाउंट से पैसे कट जाते थे और निकल नहीं पाते थे। इसके बाद ये लोग पेचकस और चिमटी से ये लोग पैसे निकाल लेते थे।

जबलपुर एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने कहा कि पहली बार पकड़े गए आरोपियों ने अभी तक की पूछताछ पर अलग-अलग राज्य दिल्ली, गुजरात, हरियाणा ,महाराष्ट्र, राजस्थान, बिहार, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, पं.बंगाल और मध्यप्रदेश में घटना को अंजाम देना स्वीकार किया है।

46 लाख रुपए का ट्रांजेक्शन

पुलिस टीम ने आरोपी विजय के बैंक खाते की जानकारी जुटाई तो पता चला कि उसके नाम पर तीन खाते हैं। वर्ष 2018 से अब तक एक खाते में 33 लाख, दूसरे में 12 लाख और तीसरे खाते में 96 हजार रुपए (कुल 45 लाख 96 हजार रुपए) का ट्रांजेक्शन हो चुका है। गिरफ्तारी से बचने के लिए वे कभी दोस्तों, कभी रिश्तेदारों और मजदूरों का एटीएम कार्ड 500 से एक हजार रुपए में किराए पर लेते थे।

 293 total views,  1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *