कौन है जिसने उड़ा रखी है हुड्डा की नींद

पवन कुमार बंसल
मानेसर जमीन घोटाले में पूर्व मुख्यमत्री भूपिंदर सिंह हूडा और हरयाणा के आधा दर्जन वरिष्ठ आई.ए.एस.अफसरों की रात की नींद उड़ने वाले ओम यादव ने मांमले को यहाँ तक पहुचाने के लिए करीब ग्यारह साल की लम्बी लड़ाई लड़ी है .वे मानेसर के सरपंच रह चुके है. उनके पिता जी भी मानेसर के सरपंच थे.यही नहीं उनके पिता जी भारतीय किसान यूनियन क संस्थापक थे तथा मोहिंदर सिंह टिकैत उनका बड़ा सम्मान करते थे.

ओम यादव इस मामले को देश के सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट तक लेकर गए.इस दौरान उन पर काफी दवाब भी आए और उन्हें प्रलोभन देने की कोशिस भी की गयी .लेकिन वे किसानो के हक़ के लिए लड़ते रहे. ओम यादव ने गुस्ताखी माफ़ से बात करते हुए कहा की किसानो की जमीन, जमीन अधिग्रहण एक्ट का मिसयूज करके बिल्डरो को देने की साजिस की गयी .जमीन अधिग्रहण एक्ट के मिसयूज पर कोई छात्तर किसी यूनिवर्सिटी से पी एच डी कर सकता है.

एक्ट की धारा चार और छ के तहत किसानो को जमीन अधिग्रहण के नोटिस दिए जाते थे और जब किसान ड़र कर अपनी जमीन बिल्डरो को बेच देता तो सरकर अधिग्रहण का नोटिस वापिस ले लेती थी. यह सब किसानो के मसीहा होने का दावा करने वाले भूपिंदर सिघ हूडा की सरकार में हुआ. अब हूडा साहिब इसी इलाके में रथ पर सवार होकर क्रांति यात्रा पर निकले है. वैसे उनके पैर की चोट जल्द ठीक हो यह कामना तो इस कलमघसीट सहित पूरा प्रदेश कर रहा है

 281 total views,  3 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *