कोरोना के तीन में से बस एक वेरिएंट ही चिंता की वजह: WHO

भारत में मिले कोरोना वायरस के वेरिएंट के खतरे को लेकर खुश खबरी है। WHO ने कहा भारत में सबसे पहले मिले कोविड-19 वेरिएंट, जिसे ‘डेल्टा’ वेरिएंट का नाम दिया गया है, उसके तीनों स्ट्रेन में से बस एक स्ट्रेन ही अब चिंता का विषय है, जबकि बाकी दो का खतरा कम हो गया है।

इस खतरनाक वेरिएंट का नाम B.1.617 है और इसी की वजह से भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने इतनी अधिक तबाही मचाई। यह ट्रिपल म्यूटेंट वेरिएंट है क्योंकि यह तीन प्रजातियों (लिनिएज) में है।

बीते महीने विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना के इस वेरिएंट के पूरे स्ट्रेन को ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ यानी चिंता वाला वेरिएंट बताया था, जिसके बाद भारत सरकार ने अपनी आपत्ति दर्ज की थी। मगर मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि इसका बस एक सब लिनिएज ही अब चिंता का विषय है। यानी B.1.617 वेरिएंट के तीन स्ट्रेन में से बस एक स्ट्रेन चिंता का विषय है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि अब बड़े स्तर पर पब्लिक हेल्थ के लिए B.1.617.2 वेरिएंट खतरा बना हुआ है, जबकि दूसरे स्ट्रेन के संक्रमण का प्रसार कम हो गया है।

 439 total views,  1 views today

One thought on “कोरोना के तीन में से बस एक वेरिएंट ही चिंता की वजह: WHO”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *