ग्रामीण बैंक मे दोष पृर्ण 11 वां वेतन समझौता लागू होना

भारतीय मज़दूर संघ से संबंधित आल इंडिया ग्रमीण बैंक ऑफिसर्स व वर्कर्स आर्गेनाइजेशन के आह्वान पर ग्रामीण बैंको के कर्मी 5अप्रैल से 9 अप्रैल 2021 तक काली पट्टी बांध कर भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने ग्रामीण बैंको के लिए 11 वें वेतन समझौते के आदेश 01.04.2021 को जारी किए वे तोड़ मरोड़कर लागू करने के विरोध मे ग्रामीण बैंक कर्मियों मे भारी रोष है।सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक सेवनिवर्त ऑफिसर्स व कर्मचारी संघ के प्रदेश संयोजक पदम सिंह तंवर ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के बर्ष 2001 व2003 मे भारत सरकार को स्पष्ट आदेश दिया था की जब-जब वाणिज्य बैंको मे वेतन समझौते लागू होंगे उसी अनुरूप क्षेत्रीय ग्रामीण बैंको मे भीआदेश लागू होने चाहिए । सभी वाणिज्य बैंको मे ये 11 वां वेतन समझौता व अन्य सुवीधाये दिसंबर 2020 मे लागू हो चुकी ओर एरीयर का भुगतान भी एक ही क़िस्त मे हो चुका है।लेकिन ग्रामीण बैंको मे ये एरीयर की राशि दो किस्तो मे 2022 तक दी जाएगी। 11वें वेतन समझौते को ग्रामीण बैंको मे तोड़ मरोड़कर लागू किया गया जिसके के कारण ग्रामीण बैंक कर्मी आंदोलन की राह पर हैं। आज पूरे देश मे ग्रामीण बैंको के 250 से अधिक क्षेत्रीय कार्यलयों के माध्यम से वित्त मंत्रालय भारत सरकार को इस दोषपूर्ण आदेश की खिलाफ ज्ञापन दीया जा रहा है।
आगे की आंदोलन की कड़ी मे 19 अप्रैल को देश भरके ग्रामीण बैंक के 43 हेड आफिस पर जोरदार प्रदर्शन करते हुए ज्ञापन दिया जाएगा। अगर फिर भी सरकार नही जागी तो 17 मई को पूरे देश के अस्सी हजार से अधिक ग्रामीण बैंक कर्मी एक दिन के हड़ताल करें। इसके बाद भी अगर सरकार ने अपने आदेश मे सुधार नही किया तो ग्रामीण बैंक कर्मी सरकार की योजनाओं को लागू न करने का विरोध करते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे।हर्ष तंवर, कुलबीर यादव,मंजीत ,श्रीभगवान शर्मा व पदम सिंह तंवर आज सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक के हिसार क्षेत्र के क्षेत्रीय प्रबंधक श्री सतीश कुमार जी अपनी 11 वे वेतन समझौते को पूरा लागू करवाने के भारत सरकार वित्त मंत्रालय के लिए ज्ञापन देते हुए।

 324 total views,  1 views today

11 thoughts on “ग्रामीण बैंक मे दोष पृर्ण 11 वां वेतन समझौता लागू होना”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *