अब पहले से ज्यादा सुरक्षित होगी आपकी यात्रा, 4G नेटवर्क पर दौड़ेगी भारतीय रेल

अभी तक रेलवे का पूरा सिग्नल सिस्टम जीएसएम आधारित रेलवे स्टैंडर्ड यानी कि GSMR पर चलता है. इसे 1992 में शुरू किया गया था. इसे इंटरनेशनल यूनियन ऑफ रेलवे ने शुरू किया था. इससे पहले भारत में मैनुअल सिग्नल सिस्टम से काम होता था. अब भारती रेलवे इस सिस्टम को भी एटीपी सिस्टम से बदलने जा रहा है. केंद्रीय कैबिनेट ने 9 जून को एक बड़ा फैसला लिया. भारतीय रेलवे को पहले से मिले 700 मेगा हर्त्ज (MHz) में 5 MHz की और वृद्धि कर दी गई नए स्पेक्ट्रम से भारतीय रेल में अब 4जी नेटवर्क का इस्तेमाल हो सकेगा. 4जी नेटवर्क रेलवे के पूरे सिग्नलिंग सिस्टम को बदल कर रख देगा. इससे हादसे की संभावना घटेगी और मुसाफिरों की यात्रा बेहद सुरक्षित होगी.

नए स्पेक्ट्रम से भारतीय रेलवे को एलटीई आधारित मोबाइल ट्रेन रेडियो कम्युनिकेशन की मदद मिलेगी. यह कम्युनिकेशन सिग्नल सिस्टम में इस्तेमाल हो सकेगा. इस प्रोजेक्ट में 25,000 करोड़ रुपये से ज्यादा का खर्च हो सकता है. इस पूरे प्रोजेक्ट को अगले 5 साल में पूरा करना है.

 268 total views,  1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *