श्रीपारस हॉस्पिटल को क्लीनचिट, ऑक्सीजन मॉकड्रिल से नहीं हुई मौतें, रिपोर्ट पर उठ रहे सवाल

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच आगरा के एक अस्पताल में ऑक्सीजन मॉक ड्रिल के दौरान 22 मरीजों की मौत की खबर को सरकारी जांच कमेटी ने गलत बताया है. इस मामले में अब डेथ ऑडिट कमेटी की रिपोर्ट सामने आई है. कमेटी ने ऑक्सीजन सप्लाई रोकने की वजह से 22 लोगों की मौत की बात से साफ इनकार कर दिया है.

मजिस्ट्रेटी जांच और डेथ ऑडिट रिपोर्ट में कहा गया कि 26 अप्रैल की सुब 96 मरीजों पर मॉकड्रिल नहीं की गई। हालांकि 26-27 अप्रैल को सात की जगह 16 मौतों को स्वीकार किया है।

नौ दिन बाद जारी की गई जांच रिपोर्ट में सबसे पहले अस्पताल संचालक अरिंजय जैन के बयान का उल्लेख है। जिसमें बताया गया कि हॉस्पिटल में पांच मिनट की मॉकड्रिल करने और 22 मरीजों की छंटनी का गलत अर्थ निकाला जा रहा है। आरोप निराधार हैं। ऑक्सीजन बंद कर मॉकड्रिल नहीं की गई और न ही इसका प्रमाण है। यदि ऐसा होता तो 26 अप्रैल को सुबह 22 मृत्यु होनी चाहिए थी, जो कि नहीं हुईं। संचालक ने कहा कि अस्पताल में ऑक्सीजन थी लेकिन भविष्य में आपूर्ति का संकट था। ऑक्सीजन का असिस्मेंट ही मॉकड्रिल है। हाइपोक्सिया के लक्षण एवं ऑक्सीजन सेचुरेशन लेवल को मॉनीटर करते हुए मरीजों की ऑक्सीजन आपूर्ति को विनिंग प्रोसेस का पालन किया, जिससे ये प्रतीत हुआ कि भर्ती मरीजों में 22 अतिगंभीर हैं।

रिपोर्ट में प्रबंधन द्वारा मरीजों को ऑक्सीजन की कमी का हवाला देते हुए डिस्चार्ज करने की बात सामने आई है। इसलिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा भ्रम पैदा करना माना गया। उनके खिलाफ महामारी अधिनियम 1897 के तहत 180/21 अंतर्गत धारा 25/5 महामारी अधिनियम आईपीसी की धारा 118/505 में मुकदमा पंजीकृत किया गया। जिसकी पुलिस विवेचना कर रही है। वहीं सीएमओ ने श्रीपारस हॉस्पिटल के लाइसेंस को निलंबित कर सील कर दिया है।

जांच कमेटी की रिपोर्ट पर उठ रहे सवाल

वहीं जांच कमेटी द्वारा पारस अस्पताल को क्लीन चिट दिए जाने पर सवाल उठ रहे हैं. सवाल उठ रहे हैं कि प्रशासन के बयान के आधार पर ही रिपोर्ट बनाई गई है. हालांकि प्रसाशन की तरफ से इस सरकारी रिपोर्ट की कोई ऑफिशियल घोषणा नहीं की गई है.

 267 total views,  1 views today

4 thoughts on “श्रीपारस हॉस्पिटल को क्लीनचिट, ऑक्सीजन मॉकड्रिल से नहीं हुई मौतें, रिपोर्ट पर उठ रहे सवाल”

  1. Together with almost everything that seems to be developing throughout this particular subject material, all your perspectives are generally rather radical. Having said that, I am sorry, but I do not give credence to your whole suggestion, all be it exhilarating none the less. It would seem to everybody that your opinions are generally not totally justified and in simple fact you are generally yourself not even fully certain of your assertion. In any case I did appreciate reading it.

  2. magnificent issues altogether, you simply gained a emblem new reader.
    What might you suggest in regards to your put up that you made
    some days ago? Any positive?

  3. You’ve made some really good points there. I looked on the net for additional information about the issue and found most people will go along with your views on this site.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *