मनकापुर में आयोजित कथा वाचिका कृष्णप्रिया की कथा में हजारों की संख्या में उमड़े श्रद्धालु

Spread the love

“अगर आप अपने मन मे हर समय ये विचार रखते हैं कि भगवान आपको ही देख रहे हैं तो आपका मन मलिन नहीं होगा और पाप भी नहीं होंगे। भगवान से केवल संसार को मांगने के लिए ही न याद करें अपितु उनसे उन्हें ही मांगे, उनकी भक्ति ही मांगे और जो कुछ आपको प्राप्त है उसके लिए उनका आभार भी व्यक्त करें। आप जैसे भी हैं अच्छे-बुरे, क्रोधी-लोभी, सकारात्मक-नकारात्मक सच्चे मन से प्रभु की शरण मे ग्रहण करें। ईश्वर अवश्य ही आप पर कृपा करेंगे।”

भक्ति और आध्यात्म को सर्वोपरि मानने वाली सुविख्यात परमपूज्या कृष्णप्रिया जी का आगमन मनकापुर की पावन धरा पर हुआ। कथा के एक दिवस पूर्व भव्य कलश यात्रा का आयोजन हुआ जिसमें अनेकों की संख्या में लोगों ने अपने भावों को भगवान से जोड़ा। मनकापुर के प्रतिष्ठित चौधरी परिवार द्वारा आयोजित सप्तदिवसीय श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस से ही हजारों की संख्या में भक्तों का आगमन हो रहा है और दिनों दिन श्रद्धालुओं की संख्या में वृद्धि हो रही है। यूं तो कथा का समय रात्रि में है लेकिन रात्रि में भी भक्ति का प्रकाशमान सूरज का उदय हो जाता है। लोग पूरे भक्ति भाव से कथा में कृष्णभक्ति में रम जाते हैं और सुध-बुध प्रभु को अपर्ण कर देते हैं।

आखिर कौन हैं देवी कृष्णप्रिया जिन्होंने मनकापुर को वृंदावन बना दिया?

दरअसल परमपूज्या कृष्णप्रिया जी को बचपन से ही भक्तिमयी माहौल व गुरु कृपा मिली। उनका जन्म 26 जनवरी 1997 को वृंदावन की पावन धरा पर हुआ। मात्र 6 वर्ष की नन्ही आयु में उन्होंने प्रथम बार श्रीमद्भागवत कथा की और तब से अब तक वे 400 से अधिक कथायें कर चुकीं हैं। आपको बता दें देवी जी श्रीमद्भागवत कथा के साथ साथ शिवकथा, राम कथा, नानी बाई रो मायरो, भक्तमाल की कथा इत्यादि कथायें भी करती हैं। प्रत्येक कथा में लोगों का सैलाब उमड़ पड़ता है और सभी भक्तजन भक्ति सरोवर डुबकी लगाते हैं।

दीदीजी ने बताया कि आजकल के लोग भगवान कृष्ण व उनकी लीलाओं को मानवी समझते हैं और बे फिजूल वाद विवाद करते हैं। वे अपनी मति के अनुसार ही भगवान की चीर हरण लीला, माखन चोरी लीला, गोवर्धन लीला, रासलीला इत्यादि लीलाओं का अर्थ समझते हैं लेकिन वे इन लीलाओं के पीछे छिपे गुण रहस्यों को समझने का प्रयास तक नहीं करते। भगवान की हर लीला के पीछे भक्तों का उद्धार और कोई विशेष संदेश छिपा होता है जिसे केवल भगवत कथा द्वारा व प्रेम द्वारा ही समझा जा सकता है। इसलिए श्रीमद्भागवत कथा को सबसे श्रेष्ठ ग्रन्थ बताया गया है क्योंकि इसमें भगवान कृष्ण का वास तो है ही साथ ही ये सभी मनोरथों को पूर्ण कर हमें भगवान के चरण कमलों तक पहुंचा देती हैं। जीवन के प्रत्येक समस्या का समाधान है “श्रीमद्भागवत कथा” जिसके श्रवण मात्र से समस्त पाप तत्क्षण नष्ट हो जाते हैं।

प्रवचन लोगों का जीवन बदल देते हैं

अपने भजनों एवं भगवत कथा के लिए प्रसिद्ध परमपूज्या कृष्णप्रिया के प्रवचन लोगों का जीवन बदल देते हैं वे सनातन धर्म के प्रचार के साथ साथ गौ सेवा से भी 10 वर्षों से जुड़ी हुईं हैं और ये चैन बिहारी आश्रय फाउंडेशन की संस्थापिका हैं जिसमें 250 से अधिक गौमाताओं व गौवंश की सेवा की जाती हैं और 1000 गौमाताओं के लिए एक विशाल गौशाला का कार्य भी प्रगति पर है। इस फाउंडेशन द्वारा गरीब व असहाय लोगो के लिए भी अनेक सेवा प्रकल्प चलाये जाते हैं।

कथा में देवी जी ने बताया कि – आज के कुछ मनुष्य ने अपनी स्थिति को बिगाड़ लिया है। जहां विदेशी हमारी संस्कृति को अपना रहे हैं वहीं भारतीय लोग अपने धर्म से विमुख होते जा रहे हैं। आज हमारा खान-पान, रहन-सहन, बात-चीत सबकुछ पश्चिमी सभ्यता की ओर आरुण है। हमें ये समझना होगा कि सूर्य भी पश्चिम में जाकर अस्त ही होता है तो हमारा जीवन भला कैसे सफल हो सकता है। सभी से निवेदन करते हुए दीदीजी ने कहा कि आप सभी हमारे धर्म व संस्कृति को जाने तथा उसका अनुसरण करें। वेद-शास्त्रों का अध्ययन करें, जीवो के प्रति दया भावना लाएं और स्वयं को ईश्वर की भक्ति में लगाएं। इससे आपका तो कल्याण होगा ही साथ ही आने वाली पीढ़ी को भी नई राह मिलेगी।

पूजा और विग्रह दर्शन की विधि बताई

सर्वप्रथम भगवान के चरणों की ओर निहारते हुए गुरुमन्त्र का जाप करें। और धीरे धीरे सम्पूर्ण विग्रह के दर्शन कर उनके सुंदर स्वरूप को मन मे स्थापित करें । विग्रह पूजन से बड़ी ही सरलता से ईश्वर में ध्यान लगाया जा सकता है। जो लोग मूर्ति पूजा को नहीं मानते और ईश्वर को सर्वत्र मानते हैं तो वे यह भी समझें जब ईश्वर सभी जगह है तो विग्रह में भी है तो विग्रह पूजन में हर्ज कैसा? चंचल मन को निराकार ईश्वर में लगाना अत्यंत मुश्किल है इसलिए भक्ति की शुरआत विग्रह से करें जब तक आप इस अवस्था में न आ जाएं ही ईश्वर के दर्शन आपको सर्वत्र हों। भक्ति से हमें अपने अस्तित्व का भान होता है।

कथा के अनेकानेक ज्ञानवर्धक प्रसंगों के साथ ही देवी जी की मधुर वाणी में भजनों पर सभी भक्तजन झूमते नजर आए और पूरा पांडाल कृष्णभक्ति एवं जयकरों से गूंज उठा।।

 713 total views,  2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *